उत्तर प्रदेश के मेरठ में गैजेट शॉप संचालक के पेटीएम खाते में ऑनलाइन लेनदेन के 2.55 लाख रुपये नहीं आए। इस मामले में सीजेएम की अदालत ने पेटीएम के विजय शेखर शर्मा पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। मुकदमे की कॉपी कंकरखेड़ा थाने पहुंच गई है।

कंकरखेड़ा में बजाज बाइक शोरूम के सामने विशाल सिरोही की गैजेट शॉप है। कुछ समय पहले उनके पास एक व्यक्ति आया। उसने खुद को पेटीएम कर्मचारी बताया। उसने विशाल का पेटीएम अकाउंट खोलकर मर्चेंट आईडी बना दी। व्यापारी को बताया कि प्रधानमंत्री की कैशलेश योजना के तहत उनका खाता खोला गया है। इसलिए वह अपना समस्त लेनदेन पेटीएम के जरिये ही करें। उन्हें आश्वासन दिया गया कि समस्त दायित्व की जिम्मेदारी पेटीएम की रहेगी। इस पर व्यापारी ने लेनदेन शुरू कर दिया।

विशाल सिरोही ने बताया कि फरवरी-2019 में उन्होंने 2 लाख 55 हजार 225 रुपये का व्यवसाय किया जो पेटीएम खाते में पहुंच गया लेकिन यह पैसा आज तक उनकी फर्म के खाते में नहीं आ सका है। व्यापारी के मुताबिक बार-बार शिकायत करने पर 23 फरवरी को कार सवार दो युवक उनकी शॉप पर आए और पैसा देने से इनकार कर दिया। गाली-गलौज करते हुए मारपीट की और धमकी देकर भाग गए।

अब पेटीएम ने सिर्फ 15579 रुपये बकाया दर्शाए हैं। ऐसे में पेटीएम ने 2.29 लाख रुपये हड़प लिए हैं। शपथ पत्र, बैंक स्टेटमेंट व अन्य अभिलेख के आधार पर सीजेएम कोर्ट ने पेटीएम के विजय शेखर शर्मा पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश थानाध्यक्ष कंकरखेड़ा को दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here