Loading...
Loading...

29 सितंबर से विंध्याचल का प्रसिद्ध शारदीय नवरात्र मेला प्रारंभ होने वाला है! संपूर्ण विंध्याचल में अभी तक शासन प्रशासन की ओर से शारदीय नवरात्र मेला में आने वाले देवी भक्तों के सुविधा के लिए अभी तक कोई कार्य नजर नहीं आ रहा है! 10 दिन बाद शारदीय नवरात्र मेला प्रारंभ होगा ! उक्त मेले में देश के कोने कोने लाखो देवी भक्त विंध्याचल की धरती पर दर्शन पूजा अनुष्ठान के लिए आएंगे! प्रशासनिक उदासीनता कहे या लापरवाही अभी तक विंध्याचल के किसी भी कोने पर देवी भक्तों की सुविधा के लिए कार्य प्रारंभ नहीं कराया गया है! नगर पालिका परिषद द्वारा जर्जर नालियों मार्गों का निर्माण और साफ-सफाई प्रकाश की व्यवस्था पर कार्य प्रारंभ नहीं कराया गया है! विंध्याचल की संपूर्ण गलियां अंधेरी की चपेट में हैं विंध्याचल का मुख्य मार्ग जर्जर अवस्था में है गंगा घाटों पर प्रकाश की व्यवस्था सुनिश्चित कराने की जिम्मेदारी नगर पालिका की होती है पर अभी तक यह कार्य गति प्रदान नहीं कर रहा है! जहां एक तरफ देवी भक्तों के सुविधा प्रदान करने में जिला प्रशासन असफल हो रहा है ! प्रशासनिक हठधर्मिता देखिए जिस बीआईपी मार्ग से शासन प्रशासन की उच्च पदस्थ हस्तियां न्यायपालिका की हस्तियां राजनीत की हस्तियां उक्त मार्ग से जाती हैं छांव के लिए लगा फाइबर सेट पूरी तरह से जर्जर है! संवेदनहीनता तब और छलक जाती है जब मां विंध्यवासिनी मंदिर की सीढ़ी पूरब की ओर क्षतिग्रस्त है ! केंद्र और प्रदेश में धर्म निष्ठ सरकार है हद तो तब हो गई इसी मिर्जापुर से एक दल के दो सांसद चार विधायक एक मंत्री और भाजपा शासित नगरपालिका परिषद मिर्जापुर! यह कहना अतिशयोक्ति होगा की जनता की नुमाइंदगी करने वाले और नौकरशाही की जोड़ी बैठ गई! तो आमजन को सुविधाओं से महरूम होना पड़ेगा!

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here