Loading...

वाराणसी: काशी में गंगा का जलस्‍तर एक बार फिर से बढ़ने लगा है। शुक्रवार की शाम को प्रति घंटे चार सेमी की रफ्तार से बढ़कर गंगा का जल स्तर 69.06 मीटर तक तक पहुंच गया था। यही गति शनिवार की सुबह तक बरकरार रही। अगर यही रफ्तार रही और स्थिर नहीं हुई तो रात तक गंगा चेतावनी बिंदु को पार कर सकती हैं। इसको लेकर प्रशासन ने घाटों पर चेतावनी जारी कर स्नानार्थियों एवं श्रद्धालुओं को सतर्क कर दिया है। साथ ही नौकायन भी बंद कर दिया गया है। घाटों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। गंगा एवं वरुणा के निचले हिस्सों के कई घरों में पानी घुसने लगा है। लोग सुरक्षित स्थानों पर जाने की तैयारी भी करने लगे हैं।

बुधवार की शाम से ही गंगा का जल स्तर बढ़ रहा है, लेकिन उस दिन रफ्तार कम थी। गुरुवार को बढ़ाव की रफ्तार प्रति घंटे छह सेमी हो गई, सुबह जहां यहां पर गंगा का जल स्तर 66.84 मीटर ही था वहीं शाम सात बजे तक यह आंकड़ा 67.72 मीटर तक तक पहुंच गया था। इसके बाद शुक्रवार की सुबह आठ बजे तक बढ़ कर यह आंकड़ा 68.64 मीटर हो गया। वहीं शाम छह बजे तक गंगा 69 मीटर के ऊपर बहते हुए 69.06 मीटर पर आ गईं। वैसे इस साल सबसे अधिक 21 अगस्त को 69.97 मीटर तक जल स्तर पहुंचा था। इसके कारण सामनेघाट पुराना पुल, सरैया शैल पुत्री, नखी घाट आदि इलाकों में पानी घुस गया था। नदी किनारे कालोनियों में बसे लोगों की धुकधुकी भी बढ़ गई है। प्रशासन की ओर से चेतावनी भी जारी कर दी गई है। घाटों पर दुकानें भी हटा ली गई है। गंगा शहजापुर, फाफामऊ, प्रयागराज, सीतामढ़ी, मीरजापुर, गाजीपुर एवं बलिया तक बढ़ रही हैं। बलिया में गंगा खतरे के निशान को पार गईं हैं।

इस समय गंगा बलिया जिले में चेतावनी बिंदु को पार कर खतरा बिंदु के पास हैं और गाजीपुर जिले में गंगा चेतावनी बिंदु के करीब पहुंच रही हैं। दोनों ही जिलों में गंगा चुनौती दे रही हैं। वहीं बलिया जिले में दुबे छपरा रिंग बंधे पर दबाव बनने लगा है जबकि इसके अलावा कई इलाकों में कटान भी हो रहा है जिससे काफी दुश्‍वारियां भी तटवर्ती इलाकों में बढ़ गई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here